World Child Labor Prohibition Day Status Video Download

Share it :

World child labor prohibition Day (विश्व बाल श्रम निषेध दिवस) whatsapp status video download,World Child Labor Prohibition Day status video,world child labour day 2019 theme,world day against child labour 2020 theme,child labour in india statistics 2019,world day against child labour poster,world day against child labour 2018 theme,anti child labour day in india status

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस के बारे में जानकारी…

प्रत्येक वर्ष 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है। बाल मजदूरी के खिलाफ़ जागरूकता फैलाने और 14 साल से कम उम्र के बच्चों को किसी तरह के काम से निकाल कर उन्हें शिक्षा दिलाने के उद्देश्य से इस दिवस की शुरुआत साल 2002 में द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन की ओर से की गई थी।

भारतवर्ष में प्रारंभ से ही बच्चों को ईश्वर का रूप माना जाता है। ईश्वर के बाल रूप यथा ‘बाल गणेश’, ‘बाल गोपाल’, ‘बाल कृष्णा’, ‘बाल हनुमान’ आदि इसके प्रत्यक्ष उदाहरण हैं। भारत की धरती ध्रुवप्रह्लादलव-कुश एवं अभिमन्यु जैसे बाल चरित्रों से पटी हुई है। बच्चों का वर्तमान दृश्य इससे भिन्न है। बच्चों का भविष्य अंधकारमय होता जा रहा है। ग़रीब बच्चे सबसे अधिक शोषण का शिकार हो रहे हैं। ग़रीब बच्चियों का जीवन भी अत्यधिक शोषित है। छोटे-छोटे ग़रीब बच्चे स्कूल छोड़कर बाल-श्रम हेतु मजबूर हैं। बाल-श्रम, मानवाधिकार का खुला उल्लंघन है। यह बच्चों के मानसिक, शारीरिक, आत्मिक, बौद्धिक एवं सामाजिक हितों को प्रभावित करता है। बच्चे आज के परिवेश में घरेलू नौकर का कार्य कर रहे हैं। वे होटलों, कारखानों, सेवा-केन्द्रों, दुकानों आदि में कार्य कर रहे हैं, जिससे उनका बचपन पूर्णतया प्रभावित हो रहा है।

भारत के संविधान, 1950 का अनुच्छेद 24 स्पष्ट करता है कि 14 वर्ष से कम उम्र के किसी भी बच्चे को ऐसे कार्य या कारखाने इत्यादि में न रखा जाये जो खतरनाक हो। कारखाना अधिनियम, बाल अधिनियम, बाल श्रम निरोधक अधिनियम आदि भी बच्चों के अधिकार को सुरक्षा देते हैं किन्तु इसके विपरीत आज की स्थिति बिलकुल भिन्न है। पिछले कुछ वर्षों से भारत सरकार एवं राज्य सरकारों की पहल इस दिशा में सराहनीय है। उनके द्वारा बच्चों के उत्थान के लिए अनेक योजनाओं को प्रारंभ किया गया हैं, जिससे बच्चों के जीवन व शिक्षा पर सकारात्मक प्रभाव दिखे। शिक्षा का अधिकार भी इस दिशा में एक सराहनीय कार्य है। इसके बावजूद बाल-श्रम की समस्या अभी भी एक विकट समस्या के रूप में विराजमान है। इसमें कोई शक नहीं कि बाल-श्रम की समस्या किसी भी देश व समाज के लिए घातक है। बाल-श्रम पर पूर्णतया रोक लगनी चाहिए। बाल-श्रम की समस्या जड़ से समाप्त होना अति आवश्यक है।

Download

Download

More status video: Festival Status Video

World child labour prohibition day new status video free download,data analysis of child labour in india,child labor laws around the world,child labour in india facts,world day new latest status video free download

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस कोट्स

(1) बच्चे भगवान का रूप होते हैं, उनके काम करने का मतलब है ईश्वर का अपमान करना।

(2) अशिक्षित समाज ही बाल मजदूरी को बढ़ावा देता है।

(3) बच्चे होते हैं भगवान रुप, इनसे मजदूरी करवाना नहीं अनुरूप।

(4) बच्चे करेंगे काम तो कैसे होगा देश का नाम, पढ़ कर करेंगे बड़े काम तभी तो बढ़ेगा देश का मान।

(5) बाल मजदूरी एक अभिशाप है जो किसी परिवार, समाज और देश के विकास में बाधक होता है।